India's 1st IRDAI Approved Insurance Web Aggregator

एलआईसी बीमा श्री योजना

  •  views
  •  views

LIC Bima Shree in English >

एलआईसी बीमा श्री योजना का सारांश

एलआईसी की बिमा श्री प्लान एक मनी बैक बीमा पॉलिसी है। इस प्लान को आप 14, 16, 18 तथा 20 साल की पॉलिसी अवधियों के लिए खरीद सकते हैं। खरीदे गए प्रत्येक अवधि के लिए आपको प्रीमियम का भुगतान पॉलिसी अवधि से 4 साल कम करना है। इसके तहत आपको गारंटीड लाभ के साथ-साथ लॉयल्टी लाभ का भी फायदा मिलता है। यह एक पारंपरिक जीवन बीमा पॉलिसी है और यह उच्च वेतन धारी व्यक्तियों के लिए डिज़ाइन की गई है। पॉलिसी अवधि के अंत से 4 साल पहले आप पेआउट प्राप्त करना शुरू कर देते हैं। इस समीक्षा के अंत में कुछ उदाहरणों की सहायता से हम इस योजना को बेहतर ढंग से समझने का प्रयास करेंगे।
 
पॉलिसी का नाम प्रारंभ तिथि पॉलिसी डिटेल्स पॉलिसी का प्रकार युआईएन
एलआईसी बीमा श्री 13 जून, 2018 टेबल नं. 848 मनी बैक योजना 512N316V01
 

एलआईसी बीमा श्री योजना की मुख्य विशेषताएँ

  • 14, 16, 18 और 20 वर्षों की अवधि के लिए मनी बैक प्लान
  • केवल (पॉलिसी अवधि - 4 साल) के लिए प्रीमियम का भुगतान करना होगा
  • उच्च वेतन धारियों को ध्यान में रखकर बनाई गई योजना
  • एक अतिरिक्त प्रीमियम का भुगतान करके 5 राइडर्स का विकल्प
    • दुर्घटना मृत्यु और विव्यांगता लाभ राइडर
    • दुर्घटना लाभ राइडर
    • न्यू टर्म एश्योरेंस राइडर
    • न्यू क्रिटिकल इलनेस लाभ राइडर
    • प्रीमियम छूट लाभ राइडर

COMPARE THIS PLAN WITH OTHER MONEY BACK PLANS

 

एलआईसी बीमा श्री योजना में सहभागी होने की शर्तें तथा प्रतिबंध

 
  न्यूनतम अधिकतम
बीमित रकम रु. 10,00,000 कोई सीमा नहीं
पॉलिसी अवधि 14, 16, 18 और 20 वर्ष
प्रीमियम भुगतान की अवधि पालिसी अवधि - 4 साल
प्रवेश आयु 8 साल (पूरा हो गया हो) 55 साल - 14 साल की अवधि के लिए
51 साल - 16 साल की अवधि के लिए
48 साल - 18 साल की अवधि के लिए
45 साल - 20 साल की अवधि के लिए
परिपक्वता पर आयु - 69 साल - 14 साल की अवधि के लिए
67 साल - 16 साल की अवधि के लिए
66 साल - 18 साल की अवधि के लिए
65 साल - 20 साल की अवधि के लिए
भुगतान मोड वार्षिक, अर्धवार्षिक, तिमाही, मासिक
 

इस योजना के तहत वेस्टिंग (अधिकृत) की तिथि

पालिसीधारक के 18 वर्ष की आयु के पूरा होने पर, पालिसी स्वयंचालित रूप से पालिसी वर्षगाँठ पर पालिसी धारक के अधिकार में आ जाएगी। इस अधिकार को जीवन बीमा निगम और पालिसी धारक के बीच अनुबंध माना जाएगा।
 

एलआईसी बीमा श्री योजना के तहत होनेवाले लाभ

मृत्यु लाभ - यहां पर 2 परिदृश्य हैं ...

अगर पालिसीधारक की मृत्यु पहले 5 पालिसी वर्षों में हो जाती है तो - नॉमिनी को "मृत्यु पर मिलनेवाली बीमित राशि" + "गारंटीड एडिसंस" का भुगतान किया जाएगा जो अब तक जमा हुआ है।

अगर पालिसीधारक की मृत्यु 5 पालिसी वर्षों के बाद होती है तो - नॉमिनी को "मृत्यु पर मिलनेवाली बीमित राशि" + अब तक जमा हुई "गारंटीड एडिसंस" + लॉयल्टी एडिसंस (अगर कुछ है तो) का भुगतान किया जाएगा।

मृत्यु पर मिलनेवाला बीमित राशि को निम्न में से अधिक के रूप में परिभाषित किया गया है:
  • वार्षिक प्रीमियम 10 गुना
  • मूल बीमित राशि का 125%
परिपक्वता पर बीमित राशि, जो है: 
  • 14 साल की पॉलिसी अवधि के लिए मूल बीमित राशि का 40%
  • 16 साल की पॉलिसी अवधि के लिए मूल बीमित राशि का 30%
  • 18 साल की पॉलिसी अवधि के लिए मूल बीमित राशि का 20%
  • 20 साल की पॉलिसी अवधि के लिए मूल बीमित राशि का 10%
मृत्यु पर मिलनेवाला बीमित राशि हमेशा भुगतान किए गए सभी प्रीमियमों का कम से कम 105% होना चाहिए। यहां प्रीमियम में किसी प्रकार के कर घटकों को शामिल नहीं किया गया है।
 

गारंटीड एडिसंस इस प्रकार से होंगे


पहले 5 पॉलिसी वर्षों के दौरान - प्रति 1,000 रु के बीमित रकम पर 50 रु

5 पालिसी वर्षों के बाद से प्रीमियम भुगतान की अवधि के अंत तक - प्रति 1,000 रु के बीमित रकम पर 55 रु

लॉयल्टी एडिसंस को पहले से ही नहीं जाना जा सकता क्योंकि यह एलआईसी द्वारा हर साल घोषित किया जाता है।

सर्वाइवल लाभ - अगर पालिसीधारक दिए गए पालिसी अवधि तक जीवित रहता है तो उसे निम्नलिखित लाभ प्राप्त होंगे
  • 14 वर्ष की पॉलिसी अवधि के लिए - 10 वीं और 12 वीं पॉलिसी वर्ष के अंत में मूल बीमित राशि का 30%
  • 16 वर्ष की पॉलिसी अवधि के लिए - 12 वीं और 14 वीं पॉलिसी वर्ष के अंत में मूल बीमित राशि का 35%
  • 14 वर्ष की पॉलिसी अवधि के लिए - 14 वीं और 16 वीं पॉलिसी वर्ष के अंत में मूल बीमित राशि का 40%
  • 20 वर्ष की पॉलिसी अवधि के लिए - 16 वीं और 18 वीं पॉलिसी वर्ष के अंत में मूल बीमित राशि का 45%

परिपक्वता लाभ - अगर पॉलिसीधारक  पालिसी अवधि के अंत तक जीवित रहता/रहती है, तो उसे पॉलिसी अवधि के अंत में निम्नलिखित पेआउट प्राप्त होगा:
  • 14 साल की पॉलिसी अवधि के लिए - मूल बीमित राशि का 40%
  • 16 साल की पॉलिसी अवधि के लिए - मूल बीमित राशि का 30%
  • 18 साल की पॉलिसी अवधि के लिए - मूल बीमित राशि का 20%
  • 20 साल की पॉलिसी अवधि के लिए - मूल बीमित राशि का 10%
आयकर लाभ: जीवन बीमा के तहत भुगतान किया हुआ Rs. 1,50,000 तक के प्रीमियम पर आयकर की धारा 80C के तहत छूट दी जाती है। इस योजना के तहत मिलनेवाला मैच्युरिटी लाभ भी आयकर की धारा 10(10)D के तहत कर मुक्त है।

लोन - सरेंडर वैल्यू प्राप्त करने के बाद आप अपनी पॉलिसी पर लोन का लाभ उठा सकते हैं। 2 साल के प्रीमियम के भुगतान के बाद यह योजना सरेंडर वैल्यू प्राप्त करती है। वर्तमान में, ब्याज दर प्रति वर्ष 9 .5% है। यह समय-समय पर बदल सकता है। अधिकतम लोन की राशि योजना के सरेंडर मूल्य पर निर्भर करती है:

यदि पॉलिसी लागू है तो - सरेंडर मुल्य का 90%
पेड-अप पालिसी के लिए - सरेंडर मुल्य का 80%

 

एलआईसी बीमा श्री योजना की अतिरिक्त विशेषताएँ तथा लाभ


राइडर्स - इस योजना के तहत 5 राइडर्स उपलब्ध जिसमें से आप किसी भी राइडर को एक अतिरिक्त प्रीमियम देकर खरीद सकते हैं। ये आपको अतिरिक्त लाभ प्रदान करते हैं। आप कोई भी राइडर लेने से पहले उसके बारे में विस्तार से जानकारी ले लें। सभी राइडर्स के बारे में नीचे संक्षेप में जानकारी दी गई है:

दुर्घटना मृत्यु तथा दिव्यांगता लाभ राइडर : अगर पालिसी धारक की मृत्यु किसी दुर्घटनावश (वाहन) होती है, तो उसके नॉमिनी को मूल बीमित रकम के साथ दुर्घटना लाभ राइडर के तहत मिलनेवाले अतिरिक्त रकम का भुगतान भी किया जाएगा।

दुर्घटना के कारण उत्पन्न होने वाली विकलांगता के मामले में (दुर्घटना की तारीख से 180 दिनों के भीतर), दुर्घटना लाभ राशि बीमित राशि का भुगतान मासिक किस्तों में 10 वर्षों तक किया जाएगा और दुर्घटना लाभ राशि के लिए भविष्य के प्रीमियम के साथ-साथ मूल बीमित राशि का प्रीमियम भी, माफ कर दिया जाएगा।

दुर्घटना लाभ राइडर - दुर्घटना के कारण मृत्यु के मामले में, दुर्घटना लाभ राइडर बीमित राशि का भुगतान योजना के मूल बीमा राशि के साथ नॉमिनी को किया जाएगा।

न्यू टर्म एश्योरेंस राइडर - राइडर के तहत चुने गए अतिरिक्त राशि का मूल बीमित राशि के साथ भुगतान किया जाएगा।

न्यू क्रिटिकल इलनेस लाभ राइडर - इस राइडर में शामिल 15 गंभीर बीमारियों में से किसी एक की पहचान होने पर, न्यू क्रिटिकल इलनेस लाभ राशि पॉलिसीधारक को दी जाएगी।

प्रीमियम छूट लाभ राइडर - अगर बीमित व्यक्ति इस योजना में नाबालिक हो तो प्रस्तावक इस राइडर का चुनाव कर सकते हैं. इसके तहत अगर प्रस्तावक की मृत्यु हो जाती है तो भविष्य के सभी प्रीमियम माफ़ कर दिए जाते हैं।

 ग्रेस पीरियड - वार्षिक, अर्ध-वार्षिक और त्रैमासिक भुगतान मोड के मामले में आपके प्रीमियम भुगतान की देय तिथि के बाद भी आपको 30 दिनों की छूट है। मासिक भुगतान मोड के मामले में, ग्रेस पीरियड 15 दिन है।

सर्वाइवल लाभ लेने को रोकने का विकल्प -  इसके तहत आप सर्वाइवल लाभ को तय समय पर न लेकर इसे पालिसी के दौरान बाद में या मैच्योरिटी के साथ ले सकते हैं। आपको इसपर ब्याज मिलता रहेगा। अभी इसके ब्याज की दर 6.5 %(प्रतिवर्ष) है। इसे और बेहतर तरीके से समझने के लिए आप एलआईसी की नजदीकी शाखा से संपर्क कर सकते हैं। 

किश्तों में परिपक्वता लाभ लेने का विकल्प - इसे सेटलमेंट विकल्प भी कहा जाता है। आप 5, 10 या 15 वर्षों में परिपक्वता लाभ लेने का विकल्प चुन सकते हैं। आप सालाना, अर्ध-वार्षिक, त्रैमासिक या मासिक भुगतान चुन सकते हैं। आपको इसके लिए ब्याज का भुगतान किया जाएगा। ब्याज दर बेहतर तरीके से समझने के लिए आप एलआईसी की नजदीकी शाखा से संपर्क कर सकते हैं। 

किस्तों में मृत्यु लाभ लेने का विकल्प - यदि आप इसका विकल्प चुनते हैं, तो आपके नामांकित व्यक्ति को 5, 10 या 15 वर्षों में मृत्यु लाभ मिलेगा। आप सालाना, अर्ध-वार्षिक, त्रैमासिक या मासिक भुगतान चुन सकते हैं। आपको इसके लिए ब्याज का भुगतान किया जाएगा। ब्याज दर की पेशकश के बारे में जानने के लिए आपको एलआईसी कार्यालय से संपर्क करने की आवश्यकता होगी।

सरेंडर वैल्यू - अगर 2 साल के प्रीमियम का भुगतान किया गया है तो योजना को सरेंडर किया जा सकता है। यह योजना एक गारंटीड सरेंडर वैल्यू और एक स्पेशल सरेंडर वैल्यू प्रदान करती है। सरेंडर के समय स्पेशल सरेंडर वैल्यू केवल एलआईसी कार्यालय से संपर्क करके पता किया जा सकता है। 

एलआईसी बीमा श्री योजना के सरेंडर वैल्यू के विवरण देखें


आइए एलआईसी बीमा श्री योजना को हम उदहारण के माध्यम से बेहतर तरीके से समझते हैं :


मान लीजिए भावेश जिनकी उम्र 30 साल है, इस योजना को खरीदते हैं।

मूल बीमित राशि - रु. 10,00,000
पॉलिसी अवधि - 20 साल
प्रीमियम भुगतान अवधि - 16 साल
वार्षिक प्रीमियम - रु. 1,08,584 + कर

परिदृश्य 1 - मान लीजिए पालिसी खरीदने के 3 साल बाद भावेश की मृत्यु हो जाती है,

इस स्थिति में , 
मृत्यु लाभ = उनके नॉमिनी को निम्न में से अधिकतर ("मौत पर मिलनेवाली बीमित राशि" + "गारंटीड एडिसन्स") रकम प्राप्त होगी।

मौत पर मिलनेवाली बीमित राशि निम्नलिखित में से जो सबसे ज्यादा है वो मान्य होगा:

वार्षिक प्रीमियम का 10 गुना = 10 x 1,08,584 = रु. 10,85,840
मूल बीमित राशि का 125% = 125% x 10,00,000 = रु. 12,50,000
मूल बीमित राशि का 10% = 10% x 10,00,000 = रु. 1,00,000
गारंटीड एडिसंस = (प्रति रु. 1000 बीमित रकम पर रु. 50) तीन साल तक  = 3 x 50,000 = रु. 1,50,000

तो नॉमिनी को रु. 12,50,000 + रु. 1,50,000 = रु. 14,00,000

और पॉलिसी समाप्त हो जाती है।

परिदृश्य 2 - मान लीजिए 7 साल तक प्रीमियम का भुगतान करने के बाद भावेश की मृत्यु हो जाती है।

इस स्थिति में,
भावेश के नॉमिनी को मृत्यु लाभ के रूप में = ("मृत्यु पर मिलनेवाली बीमित राशि" + "गारंटीड एडिसन्स" + "लॉयल्टी एडिसंस") के आधार पर निम्न में से सबसे अधिक है वो प्राप्त होगा,

वार्षिक प्रीमियम का 10 गुना  अर्थात 10 x 1,08,584 = रु. 10,85,840
मूल बीमित राशि का 125% = 125% x 10,00,000 = रु. 12,50,000
मूल बीमित राशि का 10% = 10% x 10,00,000 = रु. 1,00,000

गारंटीड एडिसंस -
पालिसी के पहले 5 वर्षों के लिए - प्रति वर्ष रु. 50 प्रति रु. 1000 के निमित रकम पर = 5 x 50,000 = रु. 2,50,000

6 वें और 7 वें वर्षों के लिए - दो वर्ष के लिए रु. 55 प्रति 1,000 बीमित रकम पर = 2 x 55,000 = रु. 1,10,000

तो नॉमिनी को रु. 12,50,000 + रु. 2,50,000 + रु. 1,10,000 = रु 16,10,000 + लॉयल्टी एडिसन्स (अगर कुछ है तो) का भुगतान किया जाएगा।

और पॉलिसी समाप्त हो जाएगी।

परिदृश्य 3 - मान लीजिए 17 साल तक प्रीमियम का भुगतान करने  के बाद भावेश की मृत्यु हो जाती है. 

इस स्थिति में, 

भावेश को सर्वाइवल लाभ की पहली किश्त जोकि 16 वें साल में उन्हें मिलेगी और उनकी मृत्यु के पश्च्यात उनके नॉमिनी को मृत्यु लाभ का भुगतान किया जाएगा.                                                                                                                  


सर्वाइवल लाभ - भावेश 16 वें वर्ष के बाद इसे प्राप्त करेंगे।

मूल बीमित रकम का 45% = 45% रु. 10,00,000 = रु. 4,50,000

मृत्यु लाभ : भावेश के नॉमिनी को मृत्यु लाभ के रूप में = ("मृत्यु पर मिलनेवाली बीमित राशि" + "गारंटीड एडिसन्स" + "लॉयल्टी एडिसंस") के आधार पर निम्न में से जो सबसे अधिक है वो प्राप्त होगा,

वार्षिक प्रीमियम का 10 गुना  अर्थात 10 x 1,08,584 = रु. 10,85,840
मूल बीमित राशि का 125% = 125% x 10,00,000 = रु. 12,50,000
मूल बीमित राशि का 10% = 10% x 10,00,000 = रु. 1,00,000

गारंटीड एडिसंस -

पालिसी के पहले 5 वर्षों के लिए - प्रति वर्ष रु. 50 प्रति रु. 1000 के बीमित रकम पर = 5 x 50,000 = रु. 2,50,000
शेष 12 वर्षों के लिए - 12 साल तक  रु. 55 प्रति 1000 के बीमित रकम पर = 12 x 55,000 = रु। 6,60,000
तो नॉमिनी को रु. 12,50,000 + रु. 2,50,000 + रु. 6,60,000 = रु. 21,60,000 + लॉयल्टी एडिसन्स (अगर कुछ है तो)।

परिदृश्य 4 - भावेश पूरी पालिसी अवधि तक जीवित रहते हैं।

इस स्थिति में भावेश को सर्वाइवल लाभ के साथ-साथ परिपक्वता लाभ भी मिलेगा।

16 वर्षों के बाद सर्वाइवल लाभ = मूल बीमित राशि का 45% = 45% x 10,00,000 = रु. 4,50,000
18 साल के बाद सर्वाइवल लाभ = मूल बीमित राशि का 45% = 45% x 10,00,000 = रु. 4,50,000
परिपक्वता लाभ = मूल बीमित राशि का 10% + गारंटीड एडिसंस + फाईनल एडिशन बोनस (यदि कोई हो।)

मूल बीमा राशि का 10% = 10% x 10,00,000 = रु. 1,00,000
पहले 5 वर्षों में गारंटीड एडीशन = 5 x रु. 50,000 = रु. 2,50,000
6 वीं से 20 वीं वर्ष में गारंटीकृत जोड़ = 15 x रु. 55,000 = रु. 8,25,000

तो भावेश को पॉलिसी अवधि के अंत में 11,75,000 रुपये का भुगतान किया जाएगा।

और पॉलिसी समाप्त हो जाएगी।

मुझे आशा है कि इससे आपको इस योजना को अच्छी तरह से समझने में मदद मिलेगी। किसी भी योजना को खरीदने से पहले उसे अच्छे तरह से समझ लें। अगर आप किसी भी पालिसी को लेकर और उसे किसी कारणवश तुरंत बंद करते हैं तो आपको इसकी भारी कीमत चुकानी होगी। अगर इस योजना के सम्बन्ध में आपको किसी तरह की कोई समस्या, प्रश्न या सुझाव हो तो कमेंट बॉक्स में जरूर लिखें। 


हमारे एक्सपर्ट दीपक योहानन से जानें एलआईसी की मनीबैक योजना जीवन श्री के बारे में विस्तार से। 


Compare MoneyBack Plans

Leave a Comment

Money Back Plan Calculator